न हुआ इश्क न सही, कोई महबूब भी मिला नहीं
चलो कम से कम शब्-ए-हिजरा सा तो कोई गिला नहीं

Advertisements