गाँव मेरा बूढा हो चला है

Image

गाँव मेरा बूढा हो चला है
नयी कोपलें अब कहाँ आती है इसमें
बस पुरानी कुछ शाखें ही बची हैं
वो भी ज़र्ज़र हो गयी हैं
न वो जोश है न ही वो रंग
वो तो गनीमत है
कि आते जाते त्यौहार
थोडा रंग, थोड़ा जूनून भर जाते हैं
बहुत छोटा बसंत आता है
ये थोड़ा जवान दिखने लगता है
पर त्योहारों के जाने के बाद
यहाँ हमेशा पतझड़ सा मौसम है
गाँव के बूढ़े इकट्ठे हो बूढ़े पेड के नीचे
अपने जिंदगी के अंतिम दिनों कों गिनते हैं
और अपनी जवानी की यादें बुनते हैं
मुझे है याद दिन जो बीते थे यहाँ पर
वो हंसना खेलना कबड्डी, पिट्टो हमारा
सडको पर खेलते बच्चे अब दिखते कहाँ हैं
वो राजनीति पर गहम चर्चे होते कहाँ है
अभी तक गाँव की जो तस्वीर
मेरे ज़हन में बसी थी
वो झूठी लगने लगी है
अब आया हूँ तो लगता है
कि गाँव मेरा बूढा हो चला है
Advertisements

कंक्रीट के जंगल

कंक्रीट के जंगल

कौन कहता है जंगल बसाए नहीं जाते
हमारे शहरों को देखो कंक्रीट के जंगल खड़े हुए हैं
फर्क इतना है की इनमे स्वच्छंदता नहीं  है
ये जंगल पिंजरों से बने हैं
जिनमे प्रवासी पंछी आ कर बसेरा डालते हैं
और हमेशा की कैद को स्वयं ही अपनाते हैं
‘और’ की चाह में आते हैं अपने घर से दूर
फिर भूल जाते हैं वो चहचहाना, गाना
मैं भी आज घर से मीलों दूर एक आशियाना ढूंढ रहा हूँ
उसी कंक्रीट के जंगल में हमेशा कैद होने के लिए

Random…

ये मेरे दीवानेपन का सुरूर है, बात कोई जरूर है
नज़र तेरी जो दिखे मुझे तो लगे समंदर-ए-नूर है .

मयखाने का रुख किया शराब के लिए
साकी, निगाह-ए-यार ने पीना भुला दिया

 

डूबना ही मुकद्दर है तो समंदर की सी गहारियों में डूबेंगे
वरना उथले पानी में डूब कर मरना तो कोई बात नहीं

दुनिया ने मुझको हाय ये क्या क्या बता दिया

जिसके भी जी में आया मुझे वो बता दिया
दुनिया ने मुझको हाय ये क्या क्या बता दिया 
 
हिन्दू या मुसलमान ही बस बच गए यहाँ
इंसान को ढूँढा तो मुझे काफिर बता दिया 
 
करते ख़ुदा ख़ुदा पर खुद की ही सोचते 
सच कर दिया बयान तो साधू बता दिया
 
इश्वर और अल्लाह के घर बन रहे यहाँ 
इंसान को फूटपाथ की चादर बता दिया 
 
सिस्टम की खिलाफत में जो आवाज़ की बुलंद 
सिस्टम के नुमाइंदो ने बागी बता दिया 
 
थक कर ज़रा इस भीड़ से हो दूर जो बैठा 
इस भीड़ ने न देर की पागल बता दिया 
 
खुद को घिसा है मैंने इस दुनिया की संग पर 
खुशबू जो आयी मुझसे तो ‘चन्दन’ बता दिया

Stardust left behind

Tags

I am not sure if this can be called as a poem or not but these are the feelings that poured out of me when a beloved person died leaving us behind with his memories. Carl Sagan once said we are made of star stuff and I think we really have people around us who glow and give us their warmth and everything , make us feel like a star, and one day leave us with only one thought that this were never happened and they would have been there still with us.

Someone has gone forever
in the depths of the universe unknown
for not coming back, ever.
leaving behind memories all we known
Left behind with lot of pain
we feel helpless in our brain
 
Moments lived together with all
that is what I am trying to recall
All those moments we have cherished
Seems that all has gone all has perished
All these thoughts make me cry
Why did it has to happen I pry
 
All the courage that I have left
I gather my strength that I can claim
Trying to collect all the memory that I can
which lives in my heart as immortal flame
 
this is how life is I come to think
this thought make my eye not to blink
“People are made of star stuff”
Carl Sagan once said
They spread warmth and brightness
when they are not dead
 
While departing from our life
which is somehow a must
they leave their memories
with us as ‘stardust’

 

हम तो इसी में खुश हैं की जल के रौशनी दे पाए

हम तो इसी में खुश हैं की जल के रौशनी दे पाए
दफन भी हो गए तो इस सरजमीं को नमी दे पाए

बला सी ख़ूबसूरत जो आँखे हैं उन्ही की कसम
तेरी वही आँखे थी जो मुझे ये ख्वाब हंसी दे पाए

उसने खेतों में दिन रात खून और पसीने बहायें है
ताकि अपने बच्चों को वो कुछ ग़ज़ ज़मीं दे पाए

वो तो सैयाद है, उसे काम पिंजरों में कैद परिंदों से
कब फडफडाते पंख उसकी आँखों को नमी दे पाए

या खुदा! आज फिर से इंसानियत का क़त्ल हुआ
अब वो वजह ढूंढता हूँ जो तेरे होने का यकीं दे पाए

यूँ ही…

Facebook के एक मित्र हैं डॉ. फैयाज़ उद्दीन उनसे बातों बातों में चंद अश’आर जुड़ गए, उम्मीद है पसंद आयेंगे. सभी एक दुसरे से अलग से हैं फिर भी पेश-ए-खिदमत है…
——————————————————————-
सपनें भी देखें सदा मुस्कराएं खुल के मिलें हम हसें और हसाएं
दिन चार जीने हैं जी भर जियें हम दुःख बाँट लें और खुशियाँ लुटाएं
वो मेरा नहीं था न सही उसकी यादें तो मेरी अपनी हैं
जिंदगी में वो नहीं न सही ये ख्वाब मेरे तो अपने हैं
उससे मिलता हूँ अपने दिल की वापसी की आस लिए
दिल तो नहीं मिलता हाँ उसे धड़कने का बहाना मिल जाता है
तेरी आवाज़ सुन कर धडकनें तेज हो गयी
दिल को जो हाथ लगाया तो वो तेरा निकला
बेकार ही मैं तुझे बेवफा मान बैठा था
ये मेरा दिल था जो असल में बेवफा निकला
तुम  मसरूफ थे अपनी तनहाइयों में हम भी मजबूर अपनी आवारगी से
पता भी नहीं चला कब तबाह हो गए रिश्ते हमारे हमारी ही बेचारगी से
——————————————————————